पुणे/पिंपरी, भारत डायरी समाचार सेवा : पिछले 11 वर्षों से श्रीमती गोदावरी हिंदी विद्यालय एवं क म विद्यालय चिचवड के छात्र-छात्राएँ भारतीय सीमा पर दुश्मनों से हमारी रक्षा के लिए तैनात जवानों को स्वनिर्मित राखियाँ भेज रहे हैं । इस वर्ष सौ वंदना मिश्रा (कला विभाग प्रमुख ) एवं सौ दीपाली वैरागर और उनके सहयोगियों तथा 5वीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों ने 3200 राखियाँ चिचवड पोस्ट आफिस में पोस्ट मास्टर श्री काम्बले एवं श्री डुम्बरे, श्री पारीख (जनसंपर्क अधिकारी द्वय) को सौंपी।
इस अवसर पर मुख्याध्यापक श्री आर आर मिश्रा, सौ सुनीता अल्वा, सौ आरती धाकड़, सौ अनीता कंवर, सौ ममता ठाकुर, श्री शंकर आथरे, श्री राजेश शुक्ला, श्री संजय पान्डे विद्यार्थी उपस्थित रहे।

विद्यार्थियों एवं शिक्षकों ने पोस्ट आफिस के अन्य सभी कर्मचारियों का स्वागत किया। श्री शुक्ला ने सभी का आभार व्यक्त किया।

बतादें कि इस साल विद्यालय के छात्र-छात्राओं में सेना के जवानों को राखियां भेजने का उत्साह चार गुना बढ गया था क्योंकि सेना के जवानों ने जहां जम्मू कश्मीर में अमन चैन बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई वहीं सेना के जवानों ने पुणे, सोलापुर, कोल्हापुर, सांगली, सातारा आदि में आई भीषण बाढ से स्थानीय लोगों के लिए देवदूत बनकर कार्य किया। बच्चों का कहना है कि सेना के जवान हमारे सच्चे रक्षक हैं और रक्षा का ही मुख्य उद्देश्य लेकर राखियां बांधने की परंपरा है। इसलिए सच्चे रक्षकों तक हमारी स्वनिर्मित राखियां पहुंचे यह हमारी प्रबल इच्छा है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें